7/27/2017

इतिहास कभी कायर का नहीं

जब जब धरती ने मांगी है बेटों की कुर्बानी !
सबसे पहले निकल के आये सारे हिन्दुस्तानी !
वंदे मातरम् वंदे मातरम्‌ ! वंदे मातरम् वंदे मातरम् !
मेरी आन है, मेरी शान है, मेरा इंडिया तू महान है
तेरी बात सबसे जुदा है और तेरी ठोकरों में जहान है!


दिलदार नहीं इनके जैसा, पर सावधान जब अनबन हो !
तब देख इरादे फौलादी सीना छत्तीस या छप्पन हो!
रुख तूफ़ानों का मोड़ दिया जब भी दिल ने जिद ठानी!
वंदे मातरम् वंदे मातरम्‌ ! वंदे मातरम् वंदे मातरम् !
तू ही धर्म है, तू ईमान है, मुझे देश रब के समान है
ये गुलाम तेरा मुरीद है, तू बुलंदियों का निशान है!

जहां स्वाभिमान की ख़ातिर सिर कटते हैं मगर झुकते ही नहीं !
जहां रणभेरी की सुन पुकार बढ़ चले क़दम रुकते ही नहीं !
ये लाजवाब, ये बेमिसाल, इनका न कोई भी सानी !
वंदे मातरम् वंदे मातरम्‌ ! वंदे मातरम् वंदे मातरम् !
मेरे शब्द का तू ही अर्थ है, मेरे लब पे तेरी ज़ुबान है
मेरा बोलना मेरी बतकही, तेरा राग है तेरा गान है !

जो देश के काम नहीं आये धिक्कार जवानी उनकी है !
इतिहास कभी कायर का नहीं, जो शहीद कहानी उनकी है!
उनके ही पांव पखारेगा हर आंख का बहता पानी!!
वंदे मातरम् वंदे मातरम्‌ ! वंदे मातरम् वंदे मातरम् !
तेरी ख़ुशबुओं की कसम मुझे, मैं तेरा हूं इसका गुमान है
तेरे इक इशारे पे मर मिटूं, तेरा तीर हूं तू कमान है!

कोई टिप्पणी नहीं: